10 जुलाई 2015

ज़रा रुको तो सही

दौड़ रहें  हैं हम सब ,
बचपन से लेकर अब तक।
क्षण भर रुको तो जरा ,
देखो प्रकृति की  छटा।
कितनी मनहर , कितनी निराली ,
चारों तरफ है हरियाली।

फुर्सत के पल ,
बीती कहानी से गए ढल।
ठहरो थोड़ा सा ,
महसूस करो बहती हवा।
शीतलता , मंद बयार की ,
हलकी - हलकी फुहार सी।

जिंदगी तो ढलती जाएगी ,
कभी भी सुकून न पायेगी।
तब अपने मन में झांको ,
ढूंढो उन मासूम पलों को ,
जब स्वछन्द विचरते थे ,
बिना किसी फ़िक्र यूँ ही बहते थे।

ज़रा रुको तो सही.…………………………………

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...